सुनंदा केसः थरूर से फिर होगी पूछताछ, जानें अमर सिंह से पूछे गए कौन से सवाल

सुनंदा केसः थरूर से फिर होगी पूछताछ, जानें अमर सिंह से पूछे गए कौन से सवाल

नई दिल्ली. पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेसी नेता शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर की हत्या के...

केजरीवाल बोले- किरण को हराने के लिए गोयल, उपाध्याय, हर्षवर्धन रच रहे साजिश

केजरीवाल बोले- किरण को हराने के लिए गोयल, उपाध्याय, हर्षवर्धन रच रहे साजिश

नई दिल्ली. दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार कर रहे आप आदमी पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल ने...

जापानी बंधक के बदले रिहा की जाएगी आतंकी साजिदा मुबारक

जापानी बंधक के बदले रिहा की जाएगी आतंकी साजिदा मुबारक

अम्मान। जॉर्डन की जेल में बंद इराकी आतंकी साजिदा मुबारक अतरौस अल-रिशावी को रिहा किया जाएगा। ताजा...

पाकिस्तान ने फिर की सीमा पर 12 घंटे गोलीबारी

पाकिस्तान ने फिर की सीमा पर 12 घंटे गोलीबारी

श्रीनगर। पाकिस्तानी फौज ने जम्मू-कश्मीर में अपनी हरकतें जारी रखते हुए शुक्रवार को भी संघर्षविराम...

  • सुनंदा केसः थरूर से फिर होगी पूछताछ, जानें अमर सिंह से पूछे गए कौन से सवाल

    सुनंदा केसः थरूर से फिर होगी पूछताछ, जानें अमर सिंह से पूछे गए कौन से सवाल

    Wednesday, 28 January 2015 15:06
  • केजरीवाल बोले- किरण को हराने के लिए गोयल, उपाध्याय, हर्षवर्धन रच रहे साजिश

    केजरीवाल बोले- किरण को हराने के लिए गोयल, उपाध्याय, हर्षवर्धन रच रहे साजिश

    Wednesday, 28 January 2015 15:09
  • जापानी बंधक के बदले रिहा की जाएगी आतंकी साजिदा मुबारक

    जापानी बंधक के बदले रिहा की जाएगी आतंकी साजिदा मुबारक

    Wednesday, 28 January 2015 15:22
  • पाकिस्तान ने फिर की सीमा पर 12 घंटे गोलीबारी

    पाकिस्तान ने फिर की सीमा पर 12 घंटे गोलीबारी

    Friday, 07 August 2015 18:09
  • श्रीनगर में लहराए लश्कर व पाक के झंडे, पोस्टर

    श्रीनगर में लहराए लश्कर व पाक के झंडे, पोस्टर

    Friday, 21 August 2015 16:45

राज रंजना

पुलिस प्लेटफार्म

लखनऊ पुलिस का नया कारनामा, मृतक को बना दिया कच्चा शराब बनाने का आरोपी

लखनऊ. मलीहाबाद शराब त्रासदी के बाद हरक में आई पुलिस का नया कारनामा सामने आया है। पारा में कच्ची शराब बनाने के आरोप में पुलिस ने तीन साल पहले मृतक को आरोपी बनाकर सरगर्मी से तलाश कर रही है। पुलिस का आरोप है कि मृतक जहरीली शराब बनाने के काम में लगा हुआ है।  मिली जानकारी के अनुसार, पारा थानांतर्गत आने वाले सरौसा सदर निवासी राजू पुत्र जगनू की तीन साल पहले मौत हो गई है। पारा पुलिस राजू के नाम पर भी मुकदमा दर्ज कर लिया और उसकी सरगर्मी से तलाश कर रही है। परिजनों की माने तो उसकी खोज बीन में कई बार पारा पुलिस दरवाजे तक आ चुकी है और उसे हाजिर करने का दबाव बना रही है। रिकॉर्ड में था शराब कारोबारी   पुलिस के रिकॉर्ड में वह कच्ची शराब का कारोबारी था।

विविध रंग

इनवेस्टर्स मीट: नोएडा में लगेगा सैमसंग प्लांट, पांच हजार करोड़ के एमओयू साइन

लखनऊ. मोबाइल उद्योग को बढ़ावा देने के लिए यूपी सरकार ने एक नई पहल की है। इसके तहत मंगलवार को ई-उत्तर प्रदेश इनवेस्टर्स मीट का आयोजन किया गया। इसमें देशभर से आए उद्यमियों का जमावड़ा लगा। सीएम अखिलेश यादव ने इनवेस्टर्स मीट की अध्यक्षता की। इस दौरान उन्होंने इंडियन सेल्युलर एसोसिएशन, लावा स्पाइस और इओएन के साथ कई अहम योजनाओं को लेकर करीब पांच हजार करोड़ रुपए के मेमोरेंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग (एमओयू) पर साइन किए। इससे कुल 50 हजार युवाओं को रोजगार मिलेगा। मीट में इसके अलावा नोएडा में सैमसंग मोबाइल प्लांट और गाजियाबाद में आईटी पार्क बनाने पर भी फैसला लिया गया। इन्वेस्टर्स मीट में इलेक्ट्रॉनिक इंडस्ट्री एसोसिएशन ऑफ इंडिया के जनरल सेक्रेटरी राजू गोयल, इंडिया इलेक्ट्रॉनिक्स एंड सेमी कंडक्टर के चेयरमैन अशोक चंडक, इंडियन सेल्युलर एसोसिएशन के नेशनल प्रेसिडेंट पंकज मोहिंदू, स्पाइस ग्रुप के दिलीप मोदी, एम्बेसी ऑफ रिपब्लिक कोरिया

विज्ञापन

-विपक्ष ने भी खेला दलित ट्रम्प कार्ड, मीरा कुमार बनीं प्रत्याषी

- लालू प्रसाद के अलावा मायावती ने भी किया समर्थन का ऐलान

नई दिल्ली। देष के राष्ट्रपति चुनाव में इसबार यह पहला मौका होगा जब यह संघर्श ’दलित बनाम दलित’ होगा। नतीजा चाहे जो हो लेकिन लगभग समूचे विपक्ष ने कांग्रेस की अगुवाई में भाजपा गठबंधन ’राजग’ के पहले ही घोशित हो चुके उम्मीदवार रामनाथ कोविंद के खिलाफ पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार को उतारने का ऐलान करते हुए नहले पर दहला जड़ने की कोषिष  की है। यह दिलचस्प मुकाबला इतिहास में पहली बार होगा जब राष्ट्रपति पद के लिए दो दिग्गज दलित नेता आमने सामने होंगे।

विपक्ष ने मीरा कुमार के नाम का ऐलान कर न केवल राजग बल्कि पाला बदलकर राजग उम्मीदवार के पक्ष में आने वाले जदयू जैसे दलों के लिए भी असहज स्थिति पैदा कर दी है। विपक्ष ने एक तीर में दो निषाने साधते हुए जहां एक ओर राजग के सामने बड़ी चुनौती पेष कर दी है वहीं दलित उम्मीदवार की शर्त रखने वाली बसपा प्रमुख मायावती की इच्छा भी पूरी कर दी है।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अगुवाई में बृहस्पतिवार को 17 दलों की बैठक के दौरान तीन नामों पर चर्चा हुई। एनसीपी नेता शरद पवार ने मीरा कुमार के अलावा पूर्व गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे और राज्यसभा सांसद बालचंद्र मंगेकर के नाम का प्रस्ताव रखा, जिसमें मीरा कुमार पर आम राय बन गई।

मीरा कुमार, पूर्व उपप्रधानमंत्री बाबू जगजीवन राम की पुत्री और पूर्व राजनयिक हैं, जबकि शिंदे और मंगेकर महाराष्ट्र के दलित नेता हैं। हालांकि माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी ने गांधीजी के प्रपौत्र गोपालकृष्ण गांधी और बीआर अंबेडकर के प्रपौत्र प्रकाश अंबेडकर की उम्मीदवारी का प्रस्ताव रखा था। 

संसद की लाइब्रेरी में हुई इस बैठक में सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और गुलाम नबी आजाद, मल्लिकार्जुन खड़गे तथा अहमद पटेल के अलावा एनसीपी नेता शरद पवार और राजद नेता लालू प्रसाद शामिल हुए।

वामदलों की ओर से सीताराम येचुरी और डी राजा, द्रमुक की कनिमोझी तथा नेशनल कांफ्रेंस के उमर अब्दुल्ला बैठक में मौजूद रहे। इससे पहले 26 मई को हुई बैठक में मौजूद रहने वाली तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी, बसपा प्रमुख मायावती और सपा नेता नेता अखिलेश यादव खुद नहीं पहुंचे थे, लेकिन उनके प्रतिनिधि थे। तृणमूल की ओर से डेरेक ओ ब्रायन, सपा के रामगोपाल यादव और बसपा के सतीश मिश्र ने बैठक में शिरकत की।

बैठक में जद-एस, आरएसपी, झामुमो, केरल कांग्रेस, आईयूएमएल तथा असम के एआईयूडीएफ जैसे दलों के नेताओं ने भी हिस्सा लिया। राजग के उम्मीदवार को समर्थन देने का मन बना चुका जदयू बैठक में शामिल नहीं हुआ लेकिन रालोद प्रमुख अजित सिंह ने हिस्सा लिया। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ‘हमने राष्ट्रपति चुनाव के लिए मीरा कुमार को साझा उम्मीदवार बनाने का फैसला किया है। हमें उम्मीद है कि इस नाम पर अन्य दल भी हमारे साथ जुड़ेंगे।’

उम्मीदवारों में दिलचस्प समानता

 राजग और विपक्ष के उम्मीदवारों के दलित बिरादरी से होने के अलावा भी कई हैरान करने वाली समानताएं हैं। मसलन दोनों ही उम्मीदवारों की उम्र 72 वर्ष हैं और दोनों ही उम्मीदवारों के पास कानून की डिग्री है। दोनों ने ही संघ लोकसेवा आयोग की परीक्षा पास की है। कोविंद का जन्म जहां कानपुर (उत्तर प्रदेश) में हुआ है जबकि मीरा कुमार के राजनीतिक करिअर की शुरुआत यूपी के बिजनौर से हुई, जहां 1985 के लोकसभा चुनाव में उन्होंने मायावती और वर्तमान केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान को हराया था।

 

Overall Rating (0)

0 out of 5 stars
  • No comments found