सुनंदा केसः थरूर से फिर होगी पूछताछ, जानें अमर सिंह से पूछे गए कौन से सवाल

सुनंदा केसः थरूर से फिर होगी पूछताछ, जानें अमर सिंह से पूछे गए कौन से सवाल

नई दिल्ली. पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेसी नेता शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर की हत्या के...

केजरीवाल बोले- किरण को हराने के लिए गोयल, उपाध्याय, हर्षवर्धन रच रहे साजिश

केजरीवाल बोले- किरण को हराने के लिए गोयल, उपाध्याय, हर्षवर्धन रच रहे साजिश

नई दिल्ली. दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार कर रहे आप आदमी पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल ने...

जापानी बंधक के बदले रिहा की जाएगी आतंकी साजिदा मुबारक

जापानी बंधक के बदले रिहा की जाएगी आतंकी साजिदा मुबारक

अम्मान। जॉर्डन की जेल में बंद इराकी आतंकी साजिदा मुबारक अतरौस अल-रिशावी को रिहा किया जाएगा। ताजा...

पाकिस्तान ने फिर की सीमा पर 12 घंटे गोलीबारी

पाकिस्तान ने फिर की सीमा पर 12 घंटे गोलीबारी

श्रीनगर। पाकिस्तानी फौज ने जम्मू-कश्मीर में अपनी हरकतें जारी रखते हुए शुक्रवार को भी संघर्षविराम...

  • सुनंदा केसः थरूर से फिर होगी पूछताछ, जानें अमर सिंह से पूछे गए कौन से सवाल

    सुनंदा केसः थरूर से फिर होगी पूछताछ, जानें अमर सिंह से पूछे गए कौन से सवाल

    Wednesday, 28 January 2015 15:06
  • केजरीवाल बोले- किरण को हराने के लिए गोयल, उपाध्याय, हर्षवर्धन रच रहे साजिश

    केजरीवाल बोले- किरण को हराने के लिए गोयल, उपाध्याय, हर्षवर्धन रच रहे साजिश

    Wednesday, 28 January 2015 15:09
  • जापानी बंधक के बदले रिहा की जाएगी आतंकी साजिदा मुबारक

    जापानी बंधक के बदले रिहा की जाएगी आतंकी साजिदा मुबारक

    Wednesday, 28 January 2015 15:22
  • पाकिस्तान ने फिर की सीमा पर 12 घंटे गोलीबारी

    पाकिस्तान ने फिर की सीमा पर 12 घंटे गोलीबारी

    Friday, 07 August 2015 18:09
  • श्रीनगर में लहराए लश्कर व पाक के झंडे, पोस्टर

    श्रीनगर में लहराए लश्कर व पाक के झंडे, पोस्टर

    Friday, 21 August 2015 16:45

राज रंजना

पुलिस प्लेटफार्म

लखनऊ पुलिस का नया कारनामा, मृतक को बना दिया कच्चा शराब बनाने का आरोपी

लखनऊ. मलीहाबाद शराब त्रासदी के बाद हरक में आई पुलिस का नया कारनामा सामने आया है। पारा में कच्ची शराब बनाने के आरोप में पुलिस ने तीन साल पहले मृतक को आरोपी बनाकर सरगर्मी से तलाश कर रही है। पुलिस का आरोप है कि मृतक जहरीली शराब बनाने के काम में लगा हुआ है।  मिली जानकारी के अनुसार, पारा थानांतर्गत आने वाले सरौसा सदर निवासी राजू पुत्र जगनू की तीन साल पहले मौत हो गई है। पारा पुलिस राजू के नाम पर भी मुकदमा दर्ज कर लिया और उसकी सरगर्मी से तलाश कर रही है। परिजनों की माने तो उसकी खोज बीन में कई बार पारा पुलिस दरवाजे तक आ चुकी है और उसे हाजिर करने का दबाव बना रही है। रिकॉर्ड में था शराब कारोबारी   पुलिस के रिकॉर्ड में वह कच्ची शराब का कारोबारी था।

विविध रंग

इनवेस्टर्स मीट: नोएडा में लगेगा सैमसंग प्लांट, पांच हजार करोड़ के एमओयू साइन

लखनऊ. मोबाइल उद्योग को बढ़ावा देने के लिए यूपी सरकार ने एक नई पहल की है। इसके तहत मंगलवार को ई-उत्तर प्रदेश इनवेस्टर्स मीट का आयोजन किया गया। इसमें देशभर से आए उद्यमियों का जमावड़ा लगा। सीएम अखिलेश यादव ने इनवेस्टर्स मीट की अध्यक्षता की। इस दौरान उन्होंने इंडियन सेल्युलर एसोसिएशन, लावा स्पाइस और इओएन के साथ कई अहम योजनाओं को लेकर करीब पांच हजार करोड़ रुपए के मेमोरेंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग (एमओयू) पर साइन किए। इससे कुल 50 हजार युवाओं को रोजगार मिलेगा। मीट में इसके अलावा नोएडा में सैमसंग मोबाइल प्लांट और गाजियाबाद में आईटी पार्क बनाने पर भी फैसला लिया गया। इन्वेस्टर्स मीट में इलेक्ट्रॉनिक इंडस्ट्री एसोसिएशन ऑफ इंडिया के जनरल सेक्रेटरी राजू गोयल, इंडिया इलेक्ट्रॉनिक्स एंड सेमी कंडक्टर के चेयरमैन अशोक चंडक, इंडियन सेल्युलर एसोसिएशन के नेशनल प्रेसिडेंट पंकज मोहिंदू, स्पाइस ग्रुप के दिलीप मोदी, एम्बेसी ऑफ रिपब्लिक कोरिया

विज्ञापन

-पांच किलोमीटर बाइक से तो तीन किलोमीटर चले पैदल

-कई जगह पुलिस से हुई कांग्रेसियों की जबरदस्त भिड़ंत

-चार घंटे तक पुलिस हिरासत में रहे कांग्रेस के उपाध्यक्ष 

 

इन्दौर। मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले में किसान आंदोलन के दौरान पुलिस फायरिंग में मारे गए छह किसानों के परिवारों से मिलने के लिए गुरुवार को कांग्रेस के उप मुखिया राहुल गांधी भारी फजीहत झेलनी पड़ी। राजस्थान के उदयपुर से मंदसौर के लिए निकले राहुल ने पुलिस से बचने के लिए कार और बाइक से भी सफर करनी पड़ी। इसके अलावा वह लगभग तीन किलोमीटर पैदल भी चले। सबकुछ के बावजूद वह अंततः मंदसौर नहीं पहुंच पाए क्योंकि उन्हें पुलिस ने नीमच से पहले ही हिरासत में ले लिया। हिरासत में उन्हें एक गेस्ट हाउस ले जाया गया। वहां वह करीब 4 घंटे तक रहे। पुलिस ने उन्हें यह इलाका छोड़ने के लिए कहा, लेकिन वह किसानों के परिवार वालों से मिलने की जिद पर अड़े रहे। जिला प्रषासन ने फोन पर किसानों के परिवारों से उनकी बात कराई और तब वह वापस जाने के लिए राजी हुए। हालांकि रिहा होने के बाद शाम को राहुल ने राजस्थान बॉर्डर पर परिवारों से मुलाकात भी की। इस बीच राहुल ने कहा,’मैं सिर्फ किसानों से मिलना चाहता था लेकिन बिना वजह बताए मुझे हिरासत में लिया गया।’

मंदसौर जाने के लिए राहुल दिल्ली से चार्टर्ड प्लेन के जरिए गुरुवार को सुबह साढ़े नौ बजे उदयपुर पहुंचे। यहां से वह  कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के साथ कार से मंदसौर के लिए रवाना हुए। राहुल की विजिट को देखते हुए राजस्थान पुलिस ने भी उन्हें रोकने की तैयारी कर रखी थी। राजस्थान-मध्यप्रदेश बॉर्डर के पहले डोरिया चौराहे पर पुलिस की मौजूदगी के कारण राहुल ने अपनी स्ट्रैटजी में बदलाव किया और डोरिया चौराहा से जलिया चेक पोस्ट तक बाइक से सफर किया। 

इस दौरान वह सचिन पायलट, कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी समेत कई लोगों के साथ थे। निंबाहेड़ा से दो किमी पहले वे जहांजपुर विधायक धीरज गुर्जर की बाइक पर सवार हुए और करीब पांच किमी का सफर कर जलिया पोस्ट पहुंचे। दोपहर 12.35 बजे राहुल ने जलिया पोस्ट के पास बाइक छोड़ दी। इसके बाद उन्होंने पैदल चलना शुरू किया। करीब 3 किमी का रास्ता पैदल तय किया।

करीब 1 बजे बॉर्डर पार करके मध्यप्रदेश के नयागांव इलाके में पहुंचे। यहां पुलिस पहले से ही तैनात थी। जब पुलिस ने रोकना चाहा तो इनके साथ आए करीब 500 कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी शुरू कर दी। राहुल खेतों की तरफ बढ़े। इस बीच भीड़ और भारी हंगामे के बीच एक खेत में पेड़ पर लगा मधुमक्खियों का छत्ता टूटकर गिर गया जिससे मधुमक्खियां चारों ओर फैल गयीं। इससे लोग इधर-उधर भागने लगे। यहां राहुल की पुलिस के साथ हल्की झड़प भी हुई।

 दोपहर करीब डेढ़ बजे पुलिस ने राहुल को हिरासत में ले लिया। उस समय राहुल के साथ प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव और सचिन पायलट भी थे। पुलिस सभी को जीरण स्थित विक्रम सीमेंट के गेस्ट हाउस ले गई। पुलिस ने इसे टेम्पोरेरी जेल बनाया था। करीब 300 से ज्यादा कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया गया। इस गेस्ट हाउस में राहुल करीब 4 घंटे तक रहे। जीरण में राहुल ने कहा,’मैं सिर्फ किसानों से, जो हिंदुस्तान के नागरिक हैं, उनसे मिलना चाहता हूं। भाजपा सरकार ने देश के सबसे बड़े आदमी का कर्ज माफ किया है लेकिन किसान का कर्ज माफ नहीं कर सकते। मैं कहता हूं कि मोदीजी न किसान का कर्जा माफ करते हैं, न बोनस देते हैं, सिर्फ किसान को गोली दे सकते हैं। आरएसएस से आपकी विचारधारा नहीं मिलती है, तो आप अंदर नहीं जा सकते हैं। आप किसी से मिल नहीं सकते हैं। मैं हिंदुस्तान के नागरिकों से मिलना चाहता हूं।’ जब उनसे पूछा गया कि फायरिंग में मारे गए किसानों के लिए कौन जिम्मेदार है, तो उन्होंने कहा- नरेंद्र मोदी जी और सीएम। शाम 5.30 बजे राहुल को पुलिस कस्टडी में ही राजस्थान बॉर्डर पर छोड़ दिया गया। बाद में राजस्थान में रोडिया के पास एक ढाबे पर किसानों के परिवारों से मुलाकात की। यहां उन्होंने कहा, सरकार ने कहा-हमने गोली चलाई ही नहीं। सरकार ने झूठ बोला। मैं तो उनसे मिलने आया हूं। क्या मैं इस देश का नागरिक नहीं हूं? क्या मैं मध्यप्रदेश नहीं आ सकता हूं? बीजेपी की सरकार के पास बहुत पैसा रखा है लेकिन यह सिर्फ 50 लोगों के लिए है। किसानों के लिए नहीं।’

राहुल के साथ कमलनाथ, दिग्विजय सिंह, मोहन प्रकाश, कांतिलाल भूरिया, शोभा ओझा, अजय सिंह और जेडीयू नेता शरद यादव भी थे, लेकिन इन सभी को एमपी के बॉर्डर पर ही रोक लिया गया था। सिर्फ राहुल ही पुलिस को चकमा देकर मंदसौर के नजदीक पहुंच पाए थे। 

षिवराज ने कहा लोग सूबे का माहौल बिगाड़ने के फिराक में

इस बीच सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि बातचीत और चर्चा से सभी मुद्दों का समाधान निकालने के लिए तैयार हैं लेकिन असामाजिक तत्व राज्य का माहौल खराब करना चाहते हैं। इनसे सख्ती से निपटा जाएगा। उधर, बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा-गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह को फायरिंग में मारे गए लोगों पर जिम्मेदारी के साथ बयान देना था। बता दें कि भूपेंद्र सिंह ने पहले कहा था पुलिस ने गोली नहीं चलाई। जबकि गुरुवार को कहा कि किसान पुलिस की गोली से ही मारे गए। 

 आन्दोलन की  असली वजह:   

मध्य प्रदेश के किसान कर्ज माफी, मिनिमम सपोर्ट प्राइस, जमीन के बदले मिलने वाले मुआवजे और दूध के रेट को लेकर आंदोलन कर रहे हैं। सबसे पहले 3 जून को इंदौर में यह आंदोलन हिंसक हो गया था। अब मंदसौर और राज्य के बाकी हिस्सों में भी तनाव है। कर्ज माफी और दूध के दाम बढ़ाने जैसे मुद्दे पर किसानों का आंदोलन महाराष्ट्र में 1 जून से शुरू हुआ था। वहां अबतक 7 लोगों की मौत हुई है।

-------------------------------------

 राहुल गांधी ने आपे से बाहर

कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी गुरुवार को मध्य प्रदेश में हिरासत में लिए जाने से पहले मंदसौर में रोके जाने पर पुलिस अफसर पर गर्म हो गए। अपना आपा खोते हुए वह गाड़ी से बाहर निकले और पुलिसवाले पर चिल्लाए। पुलिस अधिकारी से कहा,’आप कैसे रोक सकते हो हमें।’ यह बोलते हुए राहुल गांधी ने पुलिस अफसर से गाड़ी के आगे से हटने के लिए भी कहा। सोशल मीडिया पर इस घटना का वीडियो शेयर किया गया है। 

 

Overall Rating (0)

0 out of 5 stars
  • No comments found